कमिश्नर आवास के सामने रोड पर एक्सीडेंट में गाय की मौत - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News

आज का Tahkikat

Friday, 14 August 2020

कमिश्नर आवास के सामने रोड पर एक्सीडेंट में गाय की मौत

राकेश सिंह गोण्डा 

कमिश्नर आवास के सामने रोड पर एक्सीडेंट में गाय की मौत


गोंडा। जिला से जहां पर उत्तर प्रदेश योगी भाजपा सरकार ने रोड पर घूम रहे अन्ना पशुओं को गौशाला में भेजने की बात कही थी और नगर पालिका परिषद की जिम्मेदारी तय वहीं गोंडा में गोंडा शहर के चौतरफा सभी रोड पर रात में काफी संख्या में रोड पर अवारा  पशु बैठे रहते हैं रोड एक्सीडेंट की ज्यादा संभावना रहती है या तो पशु मर जाते हैं या गाड़ी चलाने वाले दुर्घटना  में घायल हो कर असमय  मृत हो जाती है। 

ताजा मामला गोंडा शहर का है जहां लखनऊ हाईवे मार्ग कमिश्नर आवास के सामने रोड पर एक गाय को किसी अज्ञात वाहन ने ठोकर मारी जिससे मौके पर उसकी मौत हो गई वहीं पड़ी हुई है नगर पालिका परिषद गोंडा के ईओ विकास सेन की बड़ी लापरवाही सामने आई जहां एक और डीएम डॉ नितिन बंसल ने बैठक करके निर्देश दिया था कि रोड पर घूम रहे अवारा  पशुओं को  गौशाला में भेजा जाए।दूसरी ओर ऐसे  लोगों पर  जो दूध निकाल  गाय जानवर को छोड़ देते उन पर मुकदमा दर्ज कराया जाए । ऐसा गोंडा में दिखाई नहीं दे रहा है । आए दिन रोड पर  अवारा  पशु घूम रहे हैं।  कमिश्नर आवास के सामने रोड पर पशु बैठे रहते हैं जिसके चलते  एक गाय रोड पर बैठी थी रात में किसी अज्ञात वाहन ने ठोकर मार दी जिससे उसकी मृत्यु हो गई ।अभी नगर पालिका के कर्मचारी उस मरी पड़ी गाय को उठाने ले जाने के लिए जहमत नहीं उठाई जब तेजतर्रार कमिश्नर एस0बी0एस0रंगराव का डर भय नहीं है और नजर अंदाज कर रहे हैं। ईओ व,सपा के नगर पालिका अध्यक्ष उजमा राशिद लोगों ने कई बार शिकायतें की  जब नोडल अधिकारी या मंत्री का दौरा रहता है तो कर्मचारी लगाकर  रोड से खेद कर भगा दिया जाता है।मंडला आयुक्त का असर बेअसर घूम रहे अवारा पशुओं से सड़क पर चलने वाले लोगों का जान खतरे में। 

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।