ऐसा कानून बने कि कोई यह कहकर बेटियों के साथ सौदा न करें कि मै तेरी लाइफ बना दूँगा - रविकिशन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News

आज का Tahkikat

Tuesday, 22 September 2020

ऐसा कानून बने कि कोई यह कहकर बेटियों के साथ सौदा न करें कि मै तेरी लाइफ बना दूँगा - रविकिशन

कृपा शंकर चौधरी ब्यूरो गोरखपुर

फिल्म इंडस्ट्री ही नहीं किसी भी इंडस्ट्री में  महिलाओंं के साथ उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं : रवि किशन
 

गोरखपुर के सांसद रवि किशन ने संसद में बोलते हुए  महिलाओंं के साथ हो रही सौदेबजी पर शख्त कानून बनाने की माँग की।

उन्होंने कहा कि अध्यक्ष जी 
इस देश की बहुत गंभीर समस्या पर आवाज उठा रहा हूँ।जैसा कि हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री जी ने कहा था बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ इससे  मेरे भारत में समस्त बेटियां,मेरी भी बेटी मै पिता हूँ उनमे एक बल आया एक शक्ति आई।शक्ति ऐसी कि वो अब निकलने लगी ,बताने लगी कि उसके साथ क्या हुआ।अपनी पीड़ा को कहने की शक्ति आई ।समस्त भारत के सामने,समस्त मीडिया के सामने ,समस्त सोशल मीडिया के सामने बेटियों को एक बल मिला हमारी सरकार में।हमारे देश में दुर्गा,गौ माता  की तरह बेटियों की  पूजा की जाती है।यह हमारे सनातन धर्म में भी है।


किसी भी इंडस्ट्री में बेटियों  का शोषण न हो ,इसके लिए बने कानून-

सांसद ने लोक सभा अध्यक्ष से माँग की कि  म एक ऐसा कानून बनाया जाए कि बेटियों,महिलाओंं के साथ हो रहे अत्याचार को रोका जा सके।कोई हिम्मत न करें कि मै तेरी लाइफ बना दूँगा और इसके बदले सौदेबाजी करें।
  कोई भी अपने सपनो को लेकर जब छोटी छोटी जगहों से ऐसी जगहों पर जाता है तो उसका सब कुछ दांव पर लगा होता है।कोई अपनी ज़मीन  बेचकर जाता है तो कोई अपनी बाइक।वहाँ  पहुँचकर जब कोई बेटी किसी बड़े निर्देशक  के  दफ़्तर की घंटी बजती है और उसकी इंट्री होती है  तो उसके साथ सौदेबाजी की जाती है।यह सौदेबाजी क्यों होती है? क्या अधिकार है किसी को सौदेबाजी का?क्या अधिकार है यह कहने का  तुम्हारी लाइफ बना दूँगा। एक  कॉमप्रोमाइज का सौदा करने की क्या जरूरत है।कब तक ऐसा चलेगा।मोदी सरकार ,हमारी सरकार में एक ऐसा कानून बनना ही चाहिए

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।