"बुनकरों ने मस्जिदों में की दुआ खवानी और मंदिरों में की पूजा-पाठ" - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Saturday, 31 October 2020

"बुनकरों ने मस्जिदों में की दुआ खवानी और मंदिरों में की पूजा-पाठ"

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


"बुनकरों ने मस्जिदों में की दुआ खवानी और मंदिरों में की पूजा-पाठ"

  वाराणसी। बुनकर बिरादाराना तंजीम व वाराणसी वस्त्र बुनकर संघ और  बनारस कलाबत्तू जरी उद्योग महासंघ के संयुक्त तत्वाधान में बुनकरों ने जगह जगह मस्जिदों में दुआख्वानी की और आज चौकाघाट स्थित काली  मंदिर में योगी आदित्यनाथ जी और यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की प्रतिमा को लेकर के पूजा पाठ के साथ आरती भी की ।

    अध्यक्ष राकेश कान्त राय ने कहा यदि यूपी सरकार तुरंत मामले का समाधान नहीं करती है तो यूपी के कपड़े व्यवसाय को बरबाद होने से कोई रोक नहीं सकता है।इधर दस सालों में कोई रोजगार अगर बहुत तेजी से पनपा था तो वह कपड़े का व्यवसाय ही था।बहुत कुछ अब माननीय मुख्यमंत्री जी के उपर निर्भर करता है उनके थोड़े से नजरें इनायत होने से स्थिति बदल सकती है।

   काला बत्तू जरी महासंघ के अध्यक्ष राजेन्द्र गांधी कुशवाहा ने कहा हम छोटे छोटे कुटीर उद्योग पूरे प्रदेश में रोजगार के साथ बहुत सारा राजस्व भी देते रहे हैं। अब यूपी का यह ढ़ांचा पूरी तरह से बिखर चुका है। पार्षद हाजी ओकास अंसारी ने कहा की प्रधान मंत्री मा0 नरेंद्र मोदी जी जब भी वाराणसी आये है उन्होंने वाराणसी वासियो को कोई न कोई तोहफा दिया है और कल मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ जी महाराज जी भी वाराणसी आ रहे है और हम बुनकरों को पूरा भरोसा है की हम सब बुनकर को भी योगी जी फिर से बिजली की फ्लैट रेट की सौगात तोहफा जरूर देंगे ।

    कार्यक्रम में प्रमुख रुप से theek सर्वश्री-अजीत कुमार गुप्ता, महेन्द्र प्रसाद, गुलशन मौर्य, ज्वाला सिंह ,संजय प्रधान, अनिल मुंद्रा, लालता प्रसाद, बिनोद ,मुरारी मौर्य, भरत ,राहुल,
अकरम अंसारी, मेहताब आलम, जीशान, विशाल वर्मा, राम जी, अवधेश ठीक है आदि लोग थे।

 

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।