गोरखपुर में धूमधाम से मनेगा महाकौल श्री श्री आनन्दमूर्ती जी का जन्मशताब्दी समारोह - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Friday, 12 March 2021

गोरखपुर में धूमधाम से मनेगा महाकौल श्री श्री आनन्दमूर्ती जी का जन्मशताब्दी समारोह

कृपा शंकर चौधरी ब्यूरो गोरखपुर

गोरखपुर में धूमधाम से मनेगा महाकौल श्री श्री आनन्दमूर्ती जी का जन्मशताब्दी समारोह

गोरखपुर। विश्व के 160 से अधिक देशों में फैले आनन्द मार्ग संस्था के प्रणेता प्रभात रंजन सरकार ( श्री श्री आनन्द मूर्ति) के जन्म के सौ वर्ष पूरे होने पर आनन्द मार्ग प्रचारक संघ की आयोजन समिति द्वारा धूमधाम से जन्मशताब्दी समारोह आयोजित किया गया है। 13 मार्च से ही चलने वाले कार्यक्रम के अंतर्गत किर्तन,लंगर और 14 मार्च को श्री श्री आनन्द मूर्ति जी का समाजिक व अध्यात्मिक अवदान विषय पर संगोष्ठी होनी है।
गौरतलब है कि आनन्द मार्ग संस्था के प्रणेता प्रभात रंजन सरकार का जन्म 1921 में बैसाखी पूर्णिमा के दिन जमालपुर (बिहार) में हुआ था। उनका संपूर्ण जीवन दर्शन और आदर्श पर केन्द्रित रहा। इनके द्वारा अध्यात्मिक दर्शन एवं साधना, समाजिक एवं अर्थनैतिक सिद्धांत, राजनीति, इतिहास,नृदत्तविज्ञान,भूगर्भशास्त्र, मनोविज्ञान,औषधिशास्त्र, भाषा विज्ञान, कला, साहित्य सहित 5000से अधिक नये सूरों और गीतों के साथ प्रभात संगीत दिया गया है।
चुकी संस्था के प्रणेता के जन्म के 100 वर्ष पूरे हो रहे हैं इसलिए विश्व में फैले इनके अनुवाइयों द्वारा जगह जगह जन्म शताब्दी समारोह मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में गोरखपुर आनन्द प्रचारक संघ के आयोजन समिति द्वारा भी कार्यक्रम आयोजित किया गया है। 
आयोजन समिति के अध्यक्ष दिलीप मुखर्जी ने बताया कि कीर्तन,लंगर के अलावा 14 मार्च को गोरखनाथ मार्ग अवस्थित बंधन मैरेज हाउस में आनन्द मूर्ति जी के समाजिक व आध्यात्मिक अवदान विषय पर एक संगोष्ठी का भी आयोजन किया गया है। इस अवसर पर देश के अलग-अलग हिस्सों से लोग आएंगे और अपने विचार रखेंगे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।