सरकार के आला अधिकारी किसी फिल्म डायरेक्टर से कम नहीं है - सतीश चंद्र मिश्र - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Wednesday, 28 July 2021

सरकार के आला अधिकारी किसी फिल्म डायरेक्टर से कम नहीं है - सतीश चंद्र मिश्र

लखनऊ ब्यूरो

सरकार के आला अधिकारी किसी फिल्म डायरेक्टर से कम नहीं है - सतीश चंद्र मिश्र

आज दिनांक 28/07/2021 को बसपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद  सतीश चंद्र मिश्र  के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में आनंद आश्रम, रानीगंज में और रायबरेली जनपद के सूर्या होटल, सिविल लाइंस, प्रबुद्ध विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया।

विचार गोष्ठी के कार्यक्रम में अपने सम्बोधन में  सतीश चंद्र मिश्र  ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुखिया और उनकी सरकार के आला अधिकारी किसी फिल्म डायरेक्टर से कम नहीं है क्योंकि जिस तरीके से उनकी सरकार पुलिस मुठभेड़ और इंकाउंटर की स्क्रिप्ट लिखती हैं, वो कोई डायरेक्टर ही कर सकता है। बीजेपी सरकार मुठभेड़ करने में बहुत आगे हैं तो उन्हें चिन्मयानंद जी, कुलदीप सिंह सेंगर समेत अपने मंत्रियों का भी मुठभेड़ करना चाहिए।

श्री मिश्र ने अपने सम्बोधन को आगे बढ़ाते हुए कहा कि देश उद्योगपतियों के भरोसे चल रहा है। पेट्रोल और डीजल जो आज 100-110 रूपये में बिक रहा है इसका रेट निर्धारित करने वाले तीन उद्योगपति हैं ,वहीं पूरा देश भी चला रहे हैं। सरकार की प्राइवेटाइजेशन की नीति के कारण मंहगाई आसमान छू रही है। नौकरियां नहीं हैं। नौकरियाँ देने के बजाय इस सरकार ने नौकरियां लेने का कार्य किया है। देश प्रदेश में सिर्फ कुछ गिनी चुनी कम्पनियाँ काम कर रही हैं बाकी बड़ी-बड़ी सरकारी और प्राइवेट कंपनियां बंद हुई जा रही हैं। खुद को किसानों का बहुत बड़ा मसीहा समझने वाले लोग ही किसानों की बातों को नहीं सुन रहे हैं। किसान आंदोलन में 500  से ज्यादा किसान शहीद हो चुके हैं अगर किसान अपना हक मांगते हैं तो उनको लाठी डंडा से मारकर, पानी की बौछार से भगाया जाता है। बहुजन समाज सरकार में 17 नए जिले बनाए गए ताकि उनका अच्छे से विकास हो सके लेकिन सत्ताधारी पार्टी ने उनका नाम बदलने व जिलों को खत्म करने का काम किया है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।