सपा द्वारा खिलाड़ी घेरा बनाकर खिलाड़ियों की समस्या एवं सरकार की उपेक्षा पर चर्चा हुई - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Sunday, 29 August 2021

सपा द्वारा खिलाड़ी घेरा बनाकर खिलाड़ियों की समस्या एवं सरकार की उपेक्षा पर चर्चा हुई

कृपा शंकर चौधरी

सपा द्वारा खिलाड़ी घेरा बनाकर खिलाड़ियों की समस्या एवं सरकार की उपेक्षा पर चर्चा हुई

गोरखपुर। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर सपा के निवर्तमान जिलाध्यक्ष नगीना प्रसाद साहनी के नेतृत्व में खोराबार के प्रा. वि. के फुटबॉल ग्राउंड में हाकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद की जयंती पर "राष्ट्रीय खेल दिवस" को "खिलाड़ी घेरा" कार्यक्रम के रूप में मना कर खिलाड़ियों की समस्याओं और भाजपा सरकार के द्वारा खिलाड़ियों को कोई सुविधा न दिए जाने पर चर्चा हुई जिसमें कई नेशनल व कई इंटरनेशनल खिलाड़ी व समाजवादी पार्टी के बरिष्ठ नेता गण व कार्यकर्ता साथी मौजूद रहे । निवर्तमान जिलाध्यक्ष नगीना प्रसाद साहनी ने कहा कि मेजर ध्यानचंद की जयंती पर उनको समर्पित ‘राष्ट्रीय खेल दिवस‘ के अवसर पर समाजवादी पार्टी ने जनपद में ‘खिलाड़ी घेरा‘ कार्यक्रम आयोजित किया गया है।
    ‘खिलाड़ी घेरा‘ का मूल संदेश व उद्देश्य खिलाड़ियों की आवाज उठाना था सपा खिलाड़ियों के साथ खडी़ है भाजपा सरकार में स्थानीय स्तर पर खिलाड़ियों की प्रतिभा-खोज की खामियां, खिलाड़ियों की चयन प्रक्रिया में अपारदर्शिता व पक्षपात, स्पोर्ट्स  एकेडमियों की सीमित संख्या व अनुपलब्धता, खिलाड़ियों के लिये खेल व अभ्यास उपकरणों की कमी, स्थानीय, क्षेत्रीय व राष्ट्रीयस्तर पर प्रतियोगिताओं की अनियमितता, स्थानीय स्तर पर स्टेडियम की कमी व रखरखाव की समस्याएं, खिलाड़ियों पर मानसिक दबाव व मनोवैज्ञानिक प्रोत्साहन की कमी, खिलाड़ियों के समुचित शारीरिक विश्राम की कमी, खिलाड़ियों के मानदेय में भेदभाव, खिलाड़ियों की सामाजिक सुरक्षा की उपेक्षा व स्वास्थ्य बीमा का विषय, खिलाड़ियों के साथ लैंगिक भेदभाव व अनुचित व्यवहार, खिलाडियों पर प्रशासन-प्रबन्धन का दबाव, खिलाड़ियों के आवागमन, उनके उपकरणों के सुरक्षित परिवहन तथा रहने-खाने की व्यवस्था की कमियां, अंतर्राष्ट्रीय मानकों के क्रीड़ा-प्रांगणों, प्रशिक्षकों व सुविधाओं की कमी, लोकप्रिय खेलों के आगे अन्य खेलों की उपेक्षा, प्रशिक्षकों को कम वेतन, मानदेय व दुसाध्य कार्यदशाएं आदि है।
    खिलाड़ियों के साथ विभिन्न प्रकार के भेदभाव होतें है, आर्थिक पारितोषिक व वेतन की अनियमितता, वृद्ध खिलाड़ियों व प्रशिक्षकों की दीन-हीन अवस्था व पेंशन की समस्या, खिलाड़ियों पर खेल संगठनों का अनुचित दबाव, खिलाड़ियों पर राजनैतिक दबाव व राजनैतिक शोषण, विजेता खिलाड़ियों के प्रोत्साहन से अधिक ‘राजनेताओं के प्रचार‘ की समस्या है निवर्तमान जिलाध्यक्ष ने कहा कि सपा खिलाड़ियों के साथ खडी़ है भाजपा की केंद्र और प्रदेश सरकार लगातार खिलाड़ियों की उपेक्षा कर रही है भाजपा सरकार द्वारा छात्रों, नौजवानों, महिलाओं, किसानों,मजदूरों, बुनकर, कुटीर उद्योग का धंधे करने वाले किसानों का शोषण-उत्पीड़न किया जा रहा है। लगातार बढ़ती मंहगाई से किसान-मजदूर-नौजवान, बुनकर सबसे ज्यादा गरीब हो गयें है। आर्थिक तंगी के कारण लोग आत्महत्या करने को मजबूर हैं। अपराध चरम पर है देश की 75 वर्ष की आजादी में भाजपा-कांग्रेस की कुनीतियों के कारण किसान-मजदूर भुखमरी के कगार पर पहुंच गये हैं। खेेलों के प्रति उदासीन सत्ता को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए खिलाड़ी भी तैयार बैठे है इस दौरान प्रमुख रूप से निवर्तमान जिलाध्यक्ष नगीना प्रसाद साहनी अखिलेश यादव विजय बहादुर यादव रजनीश यादव अमरेन्द्र निषाद दूधनाथ मौर्या जय प्रकाश यादव जितेंद्र सिंह नरसिंह यादव रामनाथ यादव बाबूराम यादव राम अजोर मौर्या राजेश यादव गिरिश यादव जितेंद्र यादव गविश दुबे एहतेसाम खान राहुल यादव रामजतन यादव हरेन्द्र यादव बृजेश कुमार गौतम नंदलाल कनौजिया सुमन पासवान देवेंद्र भूषण निषाद हरेंद्र यादव जावेद खान रणजीत पासवान सुरेंद्र निषाद सुनील आजाद कमल किशोर यादव ओम प्रकाश यादव बिंदा सैनी प्रमोद यादव सोमनाथ यादव श्याम यादव रवि शंकर राय परशुराम निषाद डॉक्टर प्रभु नाथ सोनकर घनानंद यादव स्वतंत्र सिंह यादव मनीष पांडे धर्मेंद्र यादव तथा फुटबॉल खिलाड़ी रमेश कुमार जावेद रईस मनोज कुमार रामकुमार राष्ट्रीय हाकी खिलाड़ी शिवानी सिंह शैल जायसवाल किरण कुमारी वर्षा कुमारी आदि मौजूद रही

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।