अक्षर - अक्षर बांसुरी काव्य संग्रह का विमोचन - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Saturday, 21 August 2021

अक्षर - अक्षर बांसुरी काव्य संग्रह का विमोचन

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

अक्षर - अक्षर बांसुरी काव्य संग्रह का विमोचन

वाराणसी। हृदय की गहराइयों से जीवन की विविध विधाओं के लालित्य को जीने की कला के साथ अपने भावों को सहजता के साथ शब्दों में निरूपित करना केशव जालान भाईजी का नैसर्गिक गुण है। इनकी रचनाओं में जीवन की विषमताओं एवं सामाजिक कुरीतियां का हल ढूंढने का प्रयास है। इनका कहना है कि साहित्य केवल समाज का ही दर्पण नहीं, साहित्य सम्पूर्ण संस्कृति का दर्पण है । उक्त विचार विद्वानों ने कविताम्बरा और विश्व हिंदी शोध संवर्धन अकादमी द्वारा शुक्रवार को पराड़कर स्मृति भवन के गर्दे सभागार में आयोजित अक्षर-अक्षर बांसुरी के विमोचन के अवसर समाज सेवी साहित्यकार भाई जी ने व्यक्त की।
 समारोह की अध्यक्षता प्रो राजा राम शुक्ल(पूर्व कुलपति, सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय वाराणसी) नेकहा काव्य का आंतरिक पक्ष उसकी आत्मा होती है, जिसे उन्होंने जीवित रखा है। मुख्य अतिथि अपर आयुक्त अजय सिंह ने कहा कि भाई जी के काव्य संग्रह में शब्द और अर्थ का सुंदर समन्वय है। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर वशिष्ठ अनूप ने कहा कि भाई जी प्रेम करूणा मनुष्यता प्रकृति की रागात्मकता के कवि हैं । विमोचन सभा को संबोधित करने वाले सर्वश्री डा आर एल भट्ट, पं हरीराम व्दिवेदी पूर्व न्यायाधीश डॉ चन्द्रभान सुकुमार, पत्रकार अत्रि भारद्वाज, डा मुक्ता रहे। अतिथियों का स्वागत हीरालाल मिश्र मधुकर, संचालन डॉ रामसुधार सिंह, धन्यवाद प्रकाश केशव जालान भाईजी ने की।                                          
 समारोह दो चरण में आयोजित था। दूसरे चरण में कजरी गायन आयोजित था कजरी गायन में सर्वश्री अजीता श्रीवास्तव, डा ज्योति सिन्हा, मनीष श्रीवास्तव, सुमन अग्रहरि ने कजरी गायन से श्रोताओं को विभोर कर दिया।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।