निशुल्क प्रसुति एवं स्त्री रोग परामर्श शिविर का अयोजन - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Thursday, 26 August 2021

निशुल्क प्रसुति एवं स्त्री रोग परामर्श शिविर का अयोजन

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


निशुल्क प्रसुति एवं स्त्री रोग परामर्श शिविर का अयोजन

वाराणसी। कोरोना प्रोटोकाॅल का  पालन करते हुए जागरूकता तथा निशुल्क प्रसूति एवं स्त्री रोग परामर्श शिविर  का  अयोजन हुआ। यह शिविर मदरसा मरकजी अंसारुल उलूम, काजीपुरा खुर्द में जी. क्लिनिक द्वारा आयोजित हुआ।जिसमें मरीजों की स्वास्थ्य जांच व दवा वितरण हुआ
शिविर में वरिष्ठ प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संध्या यादव पूर्व सीनियर रेजिडेंट, चिकित्सा विज्ञान संस्थान, बीएचयू एवं चीफ कंसल्टेंट, जे पी मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल, फरीदपुर, सारनाथ, वाराणसी एवं डा सुनील यादव, लेप्रोस्कोपिक सर्जन एवं इन्फर्टिलिटी एक्सपर्ट  द्वारा स्त्री रोगों से जुड़ी समस्याओं एवं अन्य रोगो के निदान हेतु परामर्श दिया गया।  कुल 178 मरीजों में 142 महिला मरीजों में सर्वाधिक 78 महिलाओं में महावारी संबंधी अनियमितताएं पाई गई, तथा अन्य में पी०सी०ओ०डी०, फाइब्रॉराइड, ल्यूकोरिया, बांझपन, अन्य  समान्य रोग आदि समस्याओं के साथ साथ कुछ महिलाओं को सामान्य प्रसूति पूर्व जॉच एवं सलाह दी गई। 
जानकारी देते हुए स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉ संध्या यादव ने बताया कि पी०सी०ओ०डी० के कारण महिलाओं में बांझपन, अनियमित महावारी एवं मोटापा की समस्याएं होती हैं।  36 पुरुषो को भी स्वास्थ्य जांच कर परामर्श दिया गया।

शिविर आयोजक हाजी रईस अहमद ने बताया कि कैंप छेत्र के लोगो के अच्छे स्वास्थ्य की कामना के साथ लगाया गया है।
कार्यक्रम में   सैयद साजीद अली,जगदीश यादव, मुमताज़ अली बाबर, हाजी मो हनीफ, हाजी अब्दुल अली, तेज प्रताप त्रिपाठी, हाजी इसरार अहमद, गंगा पटेल, अजीजुल इस्लाम, इंद्रजीत चौरसिया मो उस्मान, इत्तेश्याम, सुफियान, नियाज़ अहमद खान, इदरीस अंसारी, शौकत अली अंसारी, डा अमीन, मोबिन अहमद, लक्ष्मी सोनकरआदि उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।