प्रभात संगीत दिवस पर आनन्द मार्ग जागृति गोरखपुर में हुआ कार्यक्रम - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Wednesday, 15 September 2021

प्रभात संगीत दिवस पर आनन्द मार्ग जागृति गोरखपुर में हुआ कार्यक्रम

कृपा शंकर चौधरी गोरखपुर

प्रभात संगीत दिवस पर आनन्द मार्ग जागृति गोरखपुर में हुआ कार्यक्रम

गोरखपुर। आनंद मार्ग जागृति दक्षिणी बेतियाहाता गोरखपुर पर "प्रभात संगीत दिवस"मनाया गया जिसमें प्रभात संगीत गायन एवं नृत्य पर बच्चों को प्रोत्साहन हेतु कमेटी द्वारा  शामभवी,पर्णिका,आराध्या,चैतन्य देव को आनन्द नित्या आचार्या ने प्रमाण पत्र के साथ पुरस्कृत किया गया।
कार्यक्रम में प्रभात संगीत की प्रस्तुति समस्त मार्गी जनों द्वारा किया गया। आनन्द नित्या आचार्या द्वारा लिखित आनन्द मार्ग  दर्शन सम्बन्धी सामान्य प्रश्नोत्तरी पाठ जयती जी द्वारा किया गया।
प्रभात संगीता जिसे एक नई सुबह के गीत या प्रभात के गीत के रूप में भी जाना जाता है। यह आनन्द मार्ग के संस्थापक प्रभात रंजन सरकार द्वारा रचित गीतों का संग्रह है । प्रभात रंजन सरकार ने १९८२ से १९९० में अपनी मृत्यु तक आठ वर्षों की अवधि में कुल ५,०१८ गीतों की रचना की, जिसमें गीत और माधुर्य शामिल हैं। इनमें जबकि अधिकांश गीत बंगाली भाषा में हैं, कुछ में हैं हिंदी , अंग्रेजी , संस्कृत , उर्दू , मगही ,मैथिली और अंगिका । प्रभात संगीता को कभी-कभी एक पोस्ट- टैगोर घराना (संगीत का स्कूल) भी माना जाता है । गीतों की कविता प्रेम , रहस्यवाद , भक्ति, नवमानवतावाद और क्रांति के तत्वों को व्यक्त करती है और गीत पूर्वी और पश्चिमी दोनों मधुर शैलियों का एक व्यापक स्पेक्ट्रम प्रस्तुत करते हैं। 

कार्यक्रम में गोरखपुर DSLअवधूतिका आनंद नित्याचार्या, डॉ० रामनयन,डॉ० रंजना बागची,डॉ०धनीराम,डॉ०नित्येश देव, तपन ,उदयन,सुधीर, विवेक,संजय तिवारी,अशोक श्रीवास्तव,राहुल,रामू, मधु, मंजू,साधना,सीता, जयती,पूनम, बविता,सन्नो आदि लोगों की उपस्थिति रही।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।