सरदार नगर का नाम परिवर्तित कर 'चौरी-चौरा नगर'रखने का ज्ञापन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News

आज का Tahkikat

Monday, 27 September 2021

सरदार नगर का नाम परिवर्तित कर 'चौरी-चौरा नगर'रखने का ज्ञापन

कृपा शंकर चौधरी गोरखपुर

सरदार नगर का नाम परिवर्तित कर 'चौरी-चौरा नगर'
रखने का ज्ञापन

गोरखपुर।  समाजवादी पार्टी के नेता काली शंकर ने मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन को ज्ञापन प्रेषित कर मांग किया है कि जनपद गोरखपुर के विकासखंड सरदार नगर का नाम परिवर्तित कर 'चौरी-चौरा नगर' रखा जाए.

काली शंकर ने मुख्य सचिव को प्रेषित ज्ञापन में बताया है कि जैसा कि हम जानते हैं कि इस वर्ष चौरी चौरा जन विद्रोह का शताब्दी वर्ष मनाया जा रहा है और सरदारनगर ब्लॉक चौरीचौरा तहसील में स्थित है. हम अवगत कराना चाहते हैं कि जिस परिवार के नाम पर सरदार नगर ब्लॉक का नाम रखा गया है वह लोग अंग्रेजों के स्वामी भक्त थे. अंग्रेजों ने 1857 में शहीद बंधु सिंह से उनकी जागीर छीन कर सरदार परिवार को सौंप दिया था. उसी सरदार परिवार के लोगों ने ही चौरी चौरा जन विद्रोह के अभियुक्तों को अंग्रेज सरकार का सरकारी गवाह बन कर गवाही दिया था और उन्हें फांसी दिलवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाया था इसलिए ऐसे लोगों के परिवारों के नाम पर सरदार नगर ब्लॉक का नाम होना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है और कहीं ना कहीं शहीदों का अपमान है.

काली शंकर ने बताया कि उन्होंने मुख्य सचिव के माध्यम से सरकार से मांग किया है कि इस वर्ष चौरी चौर का शताब्दी वर्ष मनाया जा रहा है और शहीदों की याद में सरदारनगर ब्लॉक का नाम बदलकर जल्द से जल्द चौरीचौरा नगर किया जाए जो शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी. यदि हमारी इस मांग को जल्द से जल्द नहीं माना गया तो हम चौरी चौरा के लोग शहीदों के सम्मान में जन अभियान चलाने के लिए बाध्य होंगे.

काली शंकर ने कहा कि इस सरदार नगर का नाम चौरी चौरा के शहीदों के लिए कलंक है और उनका घोर अपमान है. हम अपने चौरी चौरा के शहीदों के सम्मान के लिए किसी भी स्तर पर संघर्ष करने और आवाज उठाने के लिए संकल्पित हैं. जब तक सरदारनगर ब्लॉक का नाम बदलकर चौरी चौरा नगर नहीं किया जाता तब तक हम पुरजोर आवाज उठाएंगे.




No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।