हिंदी राष्ट्रभाषा बने ,हिंदी- मीडिया संगोष्ठी संपन्न - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Tuesday, 14 September 2021

हिंदी राष्ट्रभाषा बने ,हिंदी- मीडिया संगोष्ठी संपन्न

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

हिंदी राष्ट्रभाषा बने ,हिंदी- मीडिया संगोष्ठी संपन्न  

वाराणसी। हिंदी - मीडिया का अटूट हिस्सा है । एक के अभाव में दूसरे का विकास सम्भव नहीं है । स्वतंत्रता प्राप्ति में जन जन तक माध्यम हिन्दी रहा । जो पत्रकारिता के माध्यम से संदेश का कार्य किया। भारत मे हिंदी दिवस मनाया जाता है परन्तु अन्य देशो में हिंदी कोस्थापना दिवस के रूप में मनाते हैं । हम सभी का कर्तव्य है कि हिंदी के उत्थान में प्रतिदिन योगदान देते रहना चाहिए। राष्ट्रभाषा हिन्दी को संयुक्त राष्ट्रसंघ में मान्यता के लिए भारत सरकार को और अधिक प्रयास करना चाहिए।                            

 हिंदी सेवी सूरदास कबीरदास, तुलसी दास , मुंशी प्रेमचंद, हजारी प्रसाद द्विवेदी, विष्णु राव पराड़कर सहित हिंदी प्रेमियों के योगदान हम सभी के लिए प्रेरणास्रोत हैं। हम सभी को प्रेरित होकर हिंदी के विकास में नित्य प्रति दिन लगना होगा।                                      
उक्त विचार हिंदी दिवस के अवसर इण्डियन एसोसिएशन आफ जनर्लिस्ट प्रदेश इकाई व्दारा आयोजित मध्यमेश्वर कार्यालय पर *हिंदी - मीडिया* संगोष्ठी में वक्ताओं ने कही । संगोष्ठी के मुख्य अतिथि डा कैलाश सिंह विकास (राष्ट्रीय अध्यक्ष आई ए जे) व मुख्य वक्ता ई राम नरेश नरेश, (वरिष्ठ साहित्यकार) , रहे। संगोष्ठी की अध्यक्षता आंनद कुमार सिंह (उत्तर प्रदेश अध्यक्ष) संचालन देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव देवा (जिला महामंत्री) व धन्यवाद प्रकाश डा राजेश जायसवाल (प्रदेश महामंत्री) ने की।              संगोष्ठी में सर्वश्री अर्जुन सिंह, विजय कृष्ण सिंह, मो दाऊद, , आशीर्वाद, सुनील शर्मा, विक्रम कुमार, अमित पाण्डेय, संतोष अग्रहरि, गणेश बेलवाल, मोती लाल गुप्ता, मनीष यादव डा राजकुमार शिवानी सिंह सहित अनेक पदाधिकारी व सदस्य गण उपस्थित रहे।  

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।