सरकार के इस कदम से प्राईवेट शिक्षकों को होगा फायदा, डिप्टी सीएम ने किया घोषणा - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Monday, 6 September 2021

सरकार के इस कदम से प्राईवेट शिक्षकों को होगा फायदा, डिप्टी सीएम ने किया घोषणा

डेस्क न्यूज़

सरकार के इस कदम से प्राईवेट शिक्षकों को होगा फायदा, डिप्टी सीएम ने किया घोषणा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव करीब आने एव विपक्षी दलों के निशाने पर रहने के बाद भी भारतीय जनता पार्टी की योगी सरकारअपनी निरंतर कछुआ चाल चलते हुए मंजिल प्राप्त करने की दिशा में अग्रसर है। जैसे -जैसे मंजिल करीब आ रहीं हैं सरकार के जादुई पिटारे से नित नए प्रभावशाली योजनाएं भी जनता के हितार्थ लाए जा रहे हैं।

दरअसल यूपी में सरकारी शिक्षकों की तरह ही प्राइवेट शिक्षकों को भी एक सुविधा मिलने जा रही है। इस बात की घोषणा डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने रविवार को शिक्षक दिवस के मौके पर किया। डिप्टी सीएम ने इसके अलावा भी कई घोषणाएं की हैं।  उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी वित्त विहीन माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों को वेतन का भुगतान अब उनके बैंक खाते में कराया जाएगा। प्रबंध तंत्र द्वारा उन्हें कम वेतन दिए जाने की शिकायतों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। 
डॉ. शर्मा गोमती नगर स्थित सिटी मांटेसरी स्कूल के सभागार में आयोजित शिक्षक सम्मान समारोह में बोल रहे थे। इस मौके पर उन्होंने राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त प्रदेश के दो शिक्षकों, वर्ष 2019 में राज्य अध्यापक पुरस्कार व मुख्यमंत्री अध्यापक पुरस्कार प्राप्त करने वाले 17 शिक्षकों तथा उत्कृष्ट शिक्षक के रूप में चयनित जिले के 75 शिक्षकों को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि वित्त विहीन विद्यालयों में फीस से होने वाली आय का 80 फीसदी हिस्सा वेतन मद में व्यय किए जाने की व्यवस्था है।

अक्सर ऐसी शिकायतें मिलती हैं कि इन विद्यालयों के शिक्षकों को कम वेतन दिया जाता है और नियमित रूप से नहीं दिया जाता है। खाते में वेतन भुगतान की व्यवस्था होने से इस समस्या का समाधान हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से मृत वित्त विहीन विद्यालयों के शिक्षकों के परिवारों को आर्थिक सहायता देने पर भी विचार किया जा रहा है। जल्द ही इस पर निर्णय लिया जाएगा। 
उन्होंने कहा कि माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों को पदोन्नति देने के निर्देश भी दिए गए हैं। राजकीय माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों का अवकाश (चिकित्सा अवकाश, मातृत्व अवकाश व बाल्य देखभाल अवकाश) अब मानव संपदा पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन स्वीकृत किया जाएगा। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि संस्कृत विद्यालयों के शिक्षकों को अब भी राजकीय व सहायता प्राप्त विद्यालयों के शिक्षकों की तरह सुविधाएं दी जाएंगी।
शिक्षक के सेवाकाल में दिवंगत होने पर उसके आश्रित को नौकरी दी जाएगी। यह सुविधा पहले नहीं थी। संस्कृत विद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पद भी भरे जा रहे हैं। कोरोना काल में आनलाइन शिक्षण के लिए शिक्षकों की प्रशंसा करते हुए उन्होंने साढ़े चार में अपनी सरकार की उपलब्धियां भी गिनाईं। इससे पहले माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री गुलाब देवी ने भी शिक्षकों को संबोधित किया। समारोह में आए शिक्षकों का स्वागत विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा शंभु कुमार ने किया। 

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।