नेता काली शंकर की अध्यक्षता में चौरी चौरा के लंगड़ा चौराहे पर विशाल जन पंचायत व जन संसद का आयोजन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News

आज का Tahkikat

Sunday, 26 September 2021

नेता काली शंकर की अध्यक्षता में चौरी चौरा के लंगड़ा चौराहे पर विशाल जन पंचायत व जन संसद का आयोजन

कृपा शंकर चौधरी गोरखपुर

नेता काली शंकर की अध्यक्षता में चौरी चौरा के लंगड़ा चौराहे पर विशाल जन पंचायत व जन संसद का आयोजन 

गोरखपुर। समाजवादी पार्टी के नेता काली शंकर की अध्यक्षता में चौरी चौरा के लंगड़ा चौराहे पर विशाल जन पंचायत व जन संसद का आयोजन हुआ जिसमें जनता ने जनहित से जुड़े हुए विभिन्न महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर अपना मोहर लगाकर संघर्ष का ऐलान किया.

जन पंचायत में जन संसद लगाकर बलूघट्टा मे बंधा बनाने, घटूली घाट व आमघाट पर पुल का निर्माण करने तथा आमघाट, राजधानी, बड़हरा, जयरामकोल, सधना, जोगिया और कछार क्षेत्र के बंधो के मजबूतीकरण, ऊच्चीकरण, चौड़ीकरण तथा बोल्डर पीचिंग की मांग तथा कुछ अन्य महत्वपूर्ण जन समस्याओं के प्रस्तावों को सर्वसम्मति से पास किया गया.

जन संसद और जन पंचायत की अध्यक्षता कर रहे समाजवादी नेता काली शंकर ने कहा कि अब जनता कष्ट किसी हाल में नहीं सहेगी अपने अधिकारों की लड़ाई स्वयं लड़ेगी तथा आज जन पंचायत व जन संसद में जो भी प्रस्ताव पास हुए हैं उसके लिए सड़क से लेकर के न्यायपालिका तक आवाज बुलंद होगा जब तक सभी प्रस्तावों पर कार्य शुरू नहीं हो जाता.

जन पंचायत व जन संसद में प्रमुख रूप से रंजीत बाघे, आकाश यादव, प्रदीप चौहान, जितेंद्र यादव, अभिषेक यादव, सूरज चौहान, गोलू, अब्दुल साहिल, विनोद, अनिल, सुधाकर, शैलेश, अंकेश, विवेक, सचिन, संदीप, दीपक प्रजापति, जेपी यादव, चंदन पासवान, शंभू यादव, सोहारी देवी आदि उपस्थित थे.

जन संसद में निम्नलिखित प्रस्ताव पास कर संघर्ष का निर्णय लिया गया:-

1- बलूघट्टा मे बंधा बनाया जाए. 

2-घटूली घाट व आमघाट पर पुल का निर्माण हो. 

3-आमघाट, राजधानी, बड़हरा, जयरामकोल, सधना, जोगिया और कछार क्षेत्र के बंधो के मजबूतीकरण, ऊच्चीकरण, चौड़ीकरण तथा बोल्डर पीचिंग का कार्य किया जाए.

4-जिन लोगों का राशन कार्ड गायब हो गया है या नहीं बना है उनका तत्काल राशन कार्ड बनवाया जाए तथा उनके बीच राशन की पर्याप्त मात्रा का वितरण हो.

5-बाढ़ पीड़ितों का बिजली बील माफ किया जाय व स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था कराई जाए.

6-बर्बाद हुई फसलों व पशुधन हानि का मुआवजा जल्द से जल्द दिया जाए.

7-बाढ़ प्रभावित रहे गांवों में दवा का विधिवत छिड़काव किया जाए व पर्याप्त चिकित्सकों व दवाइयों की व्यवस्था की जाए.

8-बाढ़ प्रभावित रहे गांव में कोविड् 19 का टिकाकरण कैम्प लगाया जाय तथा पशुओं के लिए चारे की व्यवस्था कराई जाए


9-बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जिनका घर गिर गया है उनको जल्द से जल्द मुआवजा या आर्थिक सहयोग दिया जाए.

10- बाढ़ के कारण जिन परिवारों में मृत्यु हुई हो उन्हें कम से कम रुपया 10 लाख मुआवजा दिया जाए.

11- जिनका शौचालय गिर गया खराब हो गया उसको बनवाने का काम किया जाए.

12- गांवों को मैंरुंड घोषित किया जाए तथा प्रभावित गांव में स्वच्छ पेयजल के लिए सरकारी हैंडपंप और आरो वाटर प्लांट लगाया जाए.

13- टूटी सड़कों का मरम्मत कराया जाए तथा नई सड़के भी बनाई जाए.

14- बाढ़ पीड़ित रहे किसानों व मजदूरों को 3 महीने तक आर्थिक सहायता दी जाए.

15- मिट्टी का तेल अर्थात केरोसिन आयल का पुनः वितरण शुरू कराया जाए.

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।