सोशल मीडिया पर फर्रुखाबाद के सांसद-विधायकों की हो रही थू-थू - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Wednesday, 8 September 2021

सोशल मीडिया पर फर्रुखाबाद के सांसद-विधायकों की हो रही थू-थू

पुनीत मिश्रा फर्रूखाबाद


सोशल मीडिया पर फर्रुखाबाद के सांसद-विधायकों की हो रही थू-थू

याद आए कद्दावर नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी

फर्रूखाबाद। गंगा एक्सप्रेस-वे फर्रुखाबाद से दूर क्या हुआ, भाजपा के जनप्रतिनिधि आवाम की नजरों से उतर गए। सोशल मीडिया पर सांसद और विधायकों की जमकर थू-थू हो रही है वहीं विपक्ष इस मुद्दों को जमकर भुना रहा है। 
पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद की पत्नी लुईस खुर्शीद ने तो आंदोलन करने तक की धमकी दे दी है

गंगा एक्सप्रेस-वे से फर्रुखाबाद को काफी उम्मीदें थीं। इसके फर्रुखाबाद के गुजरने से फर्रुखाबाद के विकास का मार्ग तो प्रशस्त होता ही, साथ ही जनपद कई महानगरों से जुड़ जाता। लेकिन योगी सरकार ने एक्सप्रेस-वे को गंगा से ही दूर कर शाहजहाँपुर से जोड़ दिया

शाहजहाँपुर के बीजेपी लीडर सुरेश खन्ना फर्रुखाबाद से भारी पड़े और उनकी गर्जना के आगे फर्रुखाबाद के भाजपा नेताओं की मिमियाहट मुख्यमंत्री योगी के कानों तक नहीं पहुंची लेकिन इससे एक बात हुई, फर्रुखाबाद की आवाम को बड़बोले भाजपा नेताओं की हकीकत पता लग गयी दो बार के सांसद मुकेश राजपूत अब लोगों की नजरों में राजा पूत भी नहीं रहे। सोशल मीडिया में लोग कह रहे हैं वे अपने दरवाजे से गंगा एक्सप्रेस वे निकाल रहे हैं। इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर बदहाल ठण्डी सड़क के चित्र भी डाले गए हैं। भाजपा के कद्दावर नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी के पुत्र फर्रुखाबाद विधायक मेजर सुनीलदत्त द्विवेदी, विधायक नागेन्द्र सिंह राठौर, विधायक सुशील शाक्य तथा विधायक अमर सिंह खटिक की सोशल मीडिया पर जमकर खबर ली जा रही है। लोगों ने यहाँ तक कह दिया है आने वाले 2022 के चुनाव में इन विधायकों को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी
इसमें कोई सन्देह नहीं योगी सरकार ने फर्रुखाबाद के लिए कोई उल्लेखनीय कार्य नहीं किया एक भी विधायक को राज्यमंत्री तक नहीं बनाया गया सड़कों के मामले में फर्रुखाबाद सबसे अधिक पिछड़ा हुआ है अधिकांश सड़कों के सीने पर जख्म हैं। ठण्डी सड़क, मोहम्मदाबाद रोड, कायमगंज रोड सभी जख्मी हालत में हैं जब कभी इनकी मरहम पट्टी कर दी जाती है गंगा एक्सप्रेस-वे के फर्रुखाबाद से छिन जाने के बाद लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर है खुद भाजपा नेताओं का कहना है कि उनके जनप्रतिनिधि मुख्यमंत्री योगी से अपनी बात रखने में विफल रहे हैं
इतना ही नहीं भाजपा के कद्दावर नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी खूब याद किए जा रहे हैं लोगों का कहना है अगर ब्रह्मदत्त द्विवेदी आज जीवित होते तो किसी की हिम्मत नहीं थी जो एक्सप्रेस वे को गंगा से अलग कर पाता

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।