ओमप्रकाश राजभर ने दिया चुनौती प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को-गरीबो के सवाल पर करे डीबेट - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Sunday, 5 September 2021

ओमप्रकाश राजभर ने दिया चुनौती प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को-गरीबो के सवाल पर करे डीबेट

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

 ओमप्रकाश राजभर ने दिया चुनौती प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को-गरीबो के सवाल पर करे डीबेट

विश्वकर्मा जागरूकता संगोष्टी का आयोजन मढ़वा सोयपुर में हुआ आयोजक सुभासपा प्रदेस महासचिव चंदन विश्वकर्मा ने अपने विश्वकर्मा समाज को आह्वान कर एकत्रित किया तथा समाज को एक जुट होने की बात किया कहा विश्वकर्मा समाज ने जिसको भी नेता बनाकर लोकसभा या विधानसभा में भेजा सब जाकर वहां पार्टीयो के गुलाम हो गए किसी ने समाज की बात तक सदन में नही उठाया। एकलौते नेता है ओमप्रकाश राजभर जिन्होनें विश्वकर्मा श्रम सम्मान के लिये सदन में मुख्य मंत्री से बहस किया।
मुख्य अतिथित पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि भाजपा ने भगवान विश्वकर्मा जयंती की छुट्टी रदद् किया है 22 में सरकार बनाकर सबसे पहले जयंती पर अवकास लागू किया जाएगा।
विश्कर्मा समाज को आरी बसूली छेनी हथौड़ी रुखानी विश्कर्मा श्रम सम्मान दे कर पुरानी पीढ़ी की ओर ले  जा रही जिसको ओमप्रकाश राजभर होने नही देगा।
वर्तमान में मंत्री दारा सिंह चौहान जो फारेस्ट मंत्री ने सुखी लकड़ियों पर पावन्द लगा कर लोहार बढ़ई का रोजगार छीन रहे है प्रदेश में 3.3 परसेंट विश्वकर्मा है जिनके वोट के लिये लोडर पैदा कर रही है
विश्वकर्मा समाज को एलेक्ट्रोनिक मसीन देने का काम हमारी सरकार करेगी।
भाजपा प्रबुद्ध सम्मेलन के बहाने लोगो को अबोध सममेलन कर रही है। आज डेंगू बीमारी के रोक थाम की जगह सम्मेलन 300 रुपया नास्ता देकर बुलाकर कर रही है, ओमप्रकाश राजभर ने कहा गरीबो के सवाल पर प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री हमसे डिबेट करे दूध का दूध पानी का पानी साफ हो जाएगा।
शशिप्रताप सिंह ने कहा कि सुभासपा हमेशा विश्वकर्मा समाज की लड़ाई लड़ने के लिये कटीवध्य है। लोहार विश्वकर्मा बढ़ई समाज के देवतुल्य है।
संचालन-शशिप्रताप सिंह ने किया
अध्यक्षता रंगीराम विश्वकर्मा ने किया
प्रमुख लोगो मे संतोष विश्वकर्मा, गोपाल विश्वकर्मा, प्रमोद विश्वकर्मा, मितिलेश पटेल, जागेश्वर, भूपेंद्र, आनन्द, हितेष , अविनाश विश्वकर्मा

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।