वर्षों से नहीं भरवाए गए सड़क के गड्ढे - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Wednesday, 29 September 2021

वर्षों से नहीं भरवाए गए सड़क के गड्ढे

पुनीत मिश्रा फर्रुखाबाद

वर्षों से नहीं भरवाए गए सड़क के गड्ढे

सड़क से गुजरने वाले छात्र छात्राओं को भी होती है परेशानी

फर्रुखाबाद के विधानसभा कायमगंज के नवाबगंज में 
सूबे में सरकार बनते ही योगी सरकार ने फरमान जारी किया था कि प्रदेश की सारी सड़कों को गड्ढा मुक्त किया जाएगा लेकिन यह दावा शायद कागजों में ही सिमट कर रह गया। फर्रुखाबाद में नवाबगंज से अचरा जाने वाली सड़क इन दिनों खस्ताहाल में है सड़क में बड़े-बड़े गड्ढे हादसे को दावत दे रहे हैं। सड़क का आलम यह है कि सड़क पर चलने वाली गाड़ियां रेंगती हुई चलती है सड़क से गुजरने वाले वाहनधारियों को अच्छी खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सरकार के लाख दावों के बावजूद भी सड़कों की बदहाली दूर होने का नाम नहीं ले रही है। सालों बीतने के बाद भी अचरा नवाबगंज मार्ग की हालत ज्यों की त्यों बनी हुई है। सड़क से गुजरने वाले छात्र-छात्राओं भी काफी दिक्कतो का सामना कर अपने अपने घर पहुंचते है। सड़क से गुजरने वाले छात्र ने बताया कि कई बार बरसात होने पर सड़क के गड्ढे ही नहीं दिखते हैं। ई रिक्शा चालक रंजीत ने बताया कि काफी समय से इस सड़क की हालत खराब है। ई रिक्शा में बैठी सवारियों को अचरा से नवाबगंज पहुंचाने में तकरीबन एक घंटे का समय लगता है। सालों से सड़क के गड्ढे तक नहीं भरे गए जिससे कई रिक्शा गड्ढे में जाने से खराब भी हो गए। मौजूद ग्रामीणों ने बताया कि वर्षों से तो सड़कों के गड्ढे तक ही नहीं भरवाए गए जबकि यह सड़क आधा सैकड़ा गांवों को जोड़ती है।


मुस्कुराइए क्योंकि आप फर्रुखाबाद जनपद में है.... जब आपकी गाड़ी हिचकोले लेने लगे और आपकी बाइक का पुर्जा पुर्जा हिलने लगे तो समझ लेना और जरा मुस्कुरा देना क्योंकि आप यूपी के जनपद फर्रुखाबाद में पहुंच चुके है। योगी सरकार भले ही गड्ढा मुक्त सड़कों की बात कर रही हो लेकिन हकीकत कुछ और है... आज आपको ज्यादा नहीं सिर्फ और सिर्फ एक तस्वीर दिखाएंगे.......नवाबगंज से अचरा जाने वाली सड़क इन दिनों खस्ताहाल में है इन दिनों ही नहीं पिछली कई वर्षों से खस्ताहाल में जिस पर सफर करना लक्ष्मण झूला से कम नहीं हिचकोले खाती गाड़ियां अपना अपना सफर करती हैं। राहगीर बताते है सालों से तो इस सड़क के गड्ढे तक नहीं भरे गए हैं और सड़कों में खड्डे इतने भयंकर हो गए हैं जो कि हादसों को दावत दे रहे हैं गाड़ियां चीटियों की तरह रेंग कर चलती है। इस मामले पर जब किसी जनप्रतिनिधि से सवाल पूछो तो जबाव मिलता है कि प्रस्ताव पास हो चुका है लेकिन शायद प्रस्ताव कागजों में ही पास हो जाता है और कागजों में ही गड्ढे भर दिए जाते है

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।