नयी सदी के स्वर पुस्तक का विमोचन ,39 साहित्यकार हुए सम्मानित - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Monday, 28 March 2022

नयी सदी के स्वर पुस्तक का विमोचन ,39 साहित्यकार हुए सम्मानित

नयी सदी के स्वर पुस्तक का विमोचन ,39 साहित्यकार हुए सम्मानित

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

वाराणसी,आज श्री महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसीके सभागार में विश्व हिंदी शोध एकाडमी कविताम्बरा एवं हिन्दी तथा आधुनिक भाषा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में रचनाकार श्री हीरालाल मिश्र मधुकर "नयी सदी के स्वर" भाग २,रचित काव्यपुस्तक लोकार्पण, सम्मान समारोह एव संगोष्ठी का मुख्य अतिथि श्री राजाराम शुक्ल (पूर्व कुलपति,श्री०सं०स०वि०वि) के  द्वारा दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।
मुख्यअतिथि पूर्व कुलपति श्री राजाराम शुक्ल,वाराणसी पुलिस आयुक्त श्री सुभाष चन्द्र दूबे प्रो राम मोहन पाठक सहित अन्य विशिष्ट अतिथियों को माल्यार्पण, अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मान किया गया।
कार्यक्रम के दौरान प्रदेश भर से आये, काशी के साहित्यकार  रामनरेश" नरेश जी सहित"३९ साहित्यकारों को 'गीत वैभव' सम्मान से सम्मानित किया गया। पूर्व कुलपति श्री राजाराम शुक्ल जी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि हिंदी के विकास के लिए साहित्यकारों का योगदान अतुलनीय है,ऐसे आयोजन हमेशा होते रहने चाहिए।
राममोहन पाठक कहा कि हिंदी के विकास के लिए काशी में साहित्य महोत्सव का आयोजन होना चाहिए,आज स्मृतिजीवी नहीं कृतिजीवी बनने की जरूरत है।पुस्तक पर अन्य वक्ताओं ने अपने अपने विचार व्यक्त किए।
कार्यक्रम का संचालन राम सुधार सिंह जी किया।
कार्यक्रम में सर्वश्री निरंजन सहाय,अनिता दूबे,वसिष्ठ अनुप, डॉ कैलाश सिंह विकास, श्रीनारायण खेमकाडा,केशव जालान, हेमंत शर्मा,आनन्द सिंह अन्ना सहीत सैकड़ो साहित्यकार,
कविगण कार्यक्रम स्थल पर उपस्थित रहे।
 कैलाश सिंह विकास रिपोर्ट आनंद कुमार सिंह

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।