डीएवी में स्वयंसेवको ने किया 97 यूनिट रक्तदान - Tahkikat News

आज का Tahkikat

Monday, 28 March 2022

डीएवी में स्वयंसेवको ने किया 97 यूनिट रक्तदान



डीएवी में स्वयंसेवको ने किया 97 यूनिट रक्तदान

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

वाराणसी, 28 मार्च। डीएवी पीजी कॉलेज के राष्ट्रीय सेवा योजना की आठों इकाईयों द्वारा सोमवार को स्व. पीएन सिंह स्मृति सभागार में वृहद रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। सप्ताहव्यापी शिविर के छठें दिन स्वयंसेवकों ने बढ़चढ़ कर रक्तदान शिविर में भाग लिया एवं रक्तदान किया। सर सुन्दर लाल चिकित्सालय,  के ब्लड बैंक द्वारा लगाये गये इस शिविर में 170 ने रक्त की जॉच कराई, जिसमें से 97 स्वयंसेवकों, कर्मचारियों एवं कार्यक्रम अधिकारियों द्वारा रक्तदान किया गया। इस अवसर पर ब्लड बैंक प्रभारी डॉ. एस.के.सिंह ने कहा कि रक्तदान को लेकर समाज में विभिन्न प्रकार की भ्रान्तियॉ मौजूद है जिस वजह से रक्तदान के प्रति लोगों मेें उदासीनता रहती है। जबकि वास्तविकता यह है कि एक 18 से 60 वर्ष के बीच का स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकता है। स्वेच्छा से किया गया रक्तदान बहुत से जरूरतमन्द के लिए सहायक होता है और किसी का जीवन भी बचा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि रक्तदान करने से व्यक्ति चार नये रिश्ते बनाता है। रक्तदान का खून थैलीसिमिया, हीमोफिलिया, जेल में बन्द कैदी, दुर्घटना में घायलों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। इस अवसर पर स्वयंसेवकों की एक टोली ने नुक्कड़ नाटक कर रक्तदान के प्रति जागरूकता अभियान चलाया।
शिविर में मुख्य रूप रक्तदान करने वालों में अदिति कुमारी, तनु, अनन्या, संतोष, गौरव, शिवम, नमन कुमार, अजय कुमार, उज्ज्वल कुमार, दिनेश, संदीप, शुभम, मनीष आदि स्वयंसेवकों शामिल रहे। इस मौके पर परामर्शदात्री रजनी गुप्ता, कार्यक्रम अधिकारी डॉ. कल्पना ंिसंह, डॉ. बन्दना बाल चन्दनानी, डॉ. प्रतिमा गुप्ता, डॉ. सिद्धार्थ सिंह, डॉ. शशिकान्त यादव, डॉ. राकेश कुमार मीणा सहित बड़ी संख्या में स्वयंसेवक उपस्थित रहे। संचालन डॉ. प्रतिभा मिश्रा एवं डॉ. नजमूल हसन ने किया।



No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।